Responsive Menu
Add more content here...

हेल्थ कार्ड कैसे बनाएं | हेल्थ कार्ड के फायदे | आयुष्मान भारत डिजीटल हेल्थ कार्ड कैसे बनाएं | Health card kaise banaye | health card online registration | health card benefits

 हेल्थ कार्ड कैसे बनाएं | हेल्थ कार्ड के फायदे | आयुष्मान भारत डिजीटल हेल्थ कार्ड कैसे बनाएं | Health card kaise banaye | health card online registration | health card benefits



हेल्थ कार्ड क्या है ?

What is unique health card

दोस्तो भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की शुरुआत पूरे भारत में कर दी है, इसके तहत हर नागरिक के पास हेल्थ आईडी कार्ड होगा। अगर आप भी हेल्थ कार्ड बनाना चाहते हैं तो आप घर बैठे ही फ्री में बना सकते हैं। दोस्तों यह कार्ड पूरी तरह से डिजिटल है और यह देखने में बिल्कुल आधार कार्ड की तरह ही होता है, इस कार्ड को आप लोग NDHM एप्लीकेशन के माध्यम से भी बना सकते हैं और वेबसाइट के माध्यम से भी बना सकते हैं।

डिजिटल हेल्थ आईडी कार्ड कैसे बनाएं ?

How to make health ID card

सबसे पहले आपको https://healthid.ndhm.gov.in/register वेबसाइट पर जाना है,

अब आपको Genrate Via Aadhaar पर क्लिक करना है, अगर आप के आधाार कार्ड में मोबाइल नंबर लिंक नहीं है तो आपको नीचे एक option दिखेगा click here आपको यहीं पर क्लिक करना है,

अब आपके सामने नया पेज आ जाएगा यहां पर आपको Generate via Mobile पर क्लिक करना है, 

यहां पर आपको मोबाइल नंबर डालना है और उसके बाद आपके मोबाइल पर Otp आएगा, ओटीपी डालने के बाद आपको सबमिट कर देना है।

उसके बाद आपके सामने पूरा फ़ॉर्म आ जाएगा,

इसमें सबसे पहले आपको अपना नाम डालना है,

उसके बाद जन्मतिथि डालनी है,

उसके बाद लिंग select करना है,

उसके बाद PHR address create करना है,

और फिर पासवर्ड बना लेना है,

उसके बाद पूरा पता डाल देना है,

उसके बाद राज्य सिलेक्ट करना है

और उसके बाद submit वाले option पर क्लिक कर देना है।

अब आपका हेल्थ आईडी कार्ड बनकर तैयार हो चुका है, 

और अब आप को इसे डाऊनलोड कर के रख लेना है, 

आप चाहो तो इसका प्रिंट निकलबा सकते हो, 

अब आप इसे यूज कर सकते हो।

हेल्थ कार्ड के फायदे

Health card benefits

दोस्तों इस कार्ड के जरिए आपके स्वस्थ से संबंधित पूरी जानकारी डिजिटल फार्मेट में दर्ज रहती है।

आपकी पूरी मेडिकल हिस्टरी इस कार्ड में दर्ज रहती है।

जब आप किसी अस्पताल में इलाज कराने के लिए जाएंगे तो पुराने सभी रिकॉर्ड आपके डिजिटल कार्ड में मिल जाएंगे।

अगर आप किसी दूसरे शहर के हॉस्पिटल में भी जाते हैं तो भाभी आपके यूनिक हेल्थ कार्ड के जरिए आपकी मेडिकल हिस्ट्री का पूरा डाटा देखा जा सकता है।

इससे डॉक्टरों को इलाज करने में आसानी होगी।

इसके साथ ही कई नई रिपोर्ट या प्रारंभिक जांच आदि में लगने वाला समय और खर्च बच जाएगा।

आयुष्मान भारत कार्ड और हेल्थ कार्ड में अंतर

Diffrent of Ayushman Bharat card and health card

दोस्तों आयुष्मान भारत कार्ड सिर्फ उन्हीं लोगों का बनता है जिनका लिस्ट में नाम होता है जबकि डिजिटल यूनिट हेल्थ कार्ड सभी लोगों का बन सकता है।

आयुष्मान भारत कार्ड के जरिए 1 साल में 500000 तक का फ्री इलाज होता है जबकि हेल्थ कार्ड के जरिए फ्री इलाज नहीं होता है।

डिजिटल यूनिक हेल्थ कार्ड में आपके मेडिकल जांच या फिर आप किसी अस्पताल में भर्ती हुए हैं तो उसका पूरा बायोडाटा रख सकते हैं जबकि आयुष्मान भारत कार्ड में ऐसा नहीं होता है।

दोस्तों यूनिक हेल्थ कार्ड आप खुद से बना सकते हैं लेकिन आयुष्मान भारत योजना का गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए आपको सीएससी सेंटर पर जाना होगा।

Website link – Click Here

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top